प्रतिक्रांति के हमसफर.docx

Please download to get full document.

View again

All materials on our website are shared by users. If you have any questions about copyright issues, please report us to resolve them. We are always happy to assist you.
 0
 
  This comment was written just before the Lok Sabha elections in 2014 and published on Hastakshep.com
Share
Transcript
    (  यह     टिणी   2014  की     है .  हेप     पर     काटत     ई    थी  . 5  साल     बाद     दे    और     टदी     म   अब     टर     चुनाव     हो गे .  टिणी     टर     से    इसटलए     दी     जा     रही     है    टक     गटतील    और    धमटनरपेता     के    पराभव     की     टचोता     करने    वाले    साथी     इस     बार     समझदारी     से    काम     लगे .)  पतिाति     के    हमसफर     ेम     टसोह    ‘‘  इस     व     समूची     दुटनया     म    ज     ह     रहा     है ,  वह     ायद     टव     इटतहास     की     सबसे    बड़ी     टताोटत     है।    यह     सोगटत     है ,  टवापी     है   और     समाज     तथा     जीवन     के    हर     पहलू     क     बदल     देने    वाली     है।    यहाो    तक     टक     कृ टत    और     ाटणजगत     क     भाटवत     करने    वाली     है।    इीसवीो    सदी     के    बाद    भी    अगर     मानव     समाज    और     सता     की     चेतना     बची     रहेगी  ,  त    आज     के    समय     के    बारे    म    इसी     तरह     का     टज     इटतहास     की     पुको    म    हगा।    डोके ल     सो टध     की     तारीख     इस     टताोटत     की     ुआत     की     तारीख     मानी     जा     सकती     है। ’’  x x x ‘‘  टताोटत     का     मतलब     पतन     या    य     नहीो    है।    पतन     या    य     वहाो    हता     है ,  जहाो    परपता    आ     चुकी     है    या     चिी     तक     पोचा     जा     चुका     है।    सटवयत     स     का     पतन     ह     गया  ;  या     हम     कह     सकते    ह    टक    आधुटनक     सता     का    य     एक    अरसे    से    ु     ह     गया     है।    इससे    टभ     टताोटत     का     प     ाोटत     जैसा     ही     हता     है ,  टस     उसका     उेश     उलिा     हता     है।    यह    भी     सोगटत     हता     है   और     एक     टवचारधारा     से    लैस     रहता     है   और     कई     मूो   और    आधारो    क     उखाड़      कने    का     काम     करता     है।    इसकी     टवचारधारा     ही     ऐसी     हती     है    टक     इसका    आोदलन    अटत     सोगटत     छिे    समूहो    के    ारा     चलाया     गया    अटभयान     हता     है। ’’  ( ‘  टवकहीन     नहीो    है    दुटनया  ’,  टकन     पिनायक  ,  राजकमल     कान  ,  पृ . 172)  टकन     जी     का     यह     कथन     रवरी   1994  का     है।    तब     से    दुटनया    और    भारत     म    टताोटत     का     पथ     उरर          हता     गया     है।    राजनीटत     म    टपछले    तीन  -  चार     सालो    म    बनी     नर     मदी    और    अरटवोद     के जरीवाल     की     क ीयता     से    टताोटत     की     टवचारधारा     काी     मजबूत     थटत     म    पोच     गई     है।    गौरतलब     है    टक     दनो    ने    लगभग     समान     चार     ैली    अपनाकर     यह     हैटसयत     हाटसल     की     है ,  टजसम    मीटडया    और    धन     की    अकूत     ताकत     झो की     गई     है।    बत  -  से    मावाटदयो ,  समाजवाटदयो ,  सामाटजक     ायवाटदयो ,  गाोधीवाटदयो   और     बुजीटवयो    ने   अरटवोद     के जरीवाल     का     साथ     देकर     या     टदी     टवधानसभा     चुनाव     म    टबना     माोगे    समथन     करके    इस     टताोटत     क     राजनीटतक     ीकायता     दान     कर     दी     है।    टदी     म   ‘ आप  ’  की     सरकार     बनती     है    या    भाजपा     की  ,  इससे    इस     साई     पर     क     पड़ने    नहीो    जा     रहा     है    टक    भारत     की     मुधारा     राजनीटत     म    टताोटत     का     सा     टतप     नहीो    बचा     है।    के जरीवाल     की     राजनीटत     के    समथक     खुद     क     यह     तसी    और     दूसरो    क     यह     वाा     देते    रहे    ह    टक     जी     ही     के जरीवाल     क   ( अपने    प     म )  ढब     कर     टलया     जाएगा।    आ     उा     है।    के जरीवाल     ने    सबक   ( अपने    प     म )  ढब     कर     टलया     है।    सुना     है    टकरण     बेदी     के   ‘  छिे    गाोधी  ’  कामरेडो    के    लेटनन     ह !  का     करात     ने    कहा     बताते    ह    टक     के जरीवाल     का     टवरध     करने    वाले    मा     क     नहीो    समझते    ह।    टताोटत     इस     कदर     टसर     चढ़     कर     बल     रही     है    टक     मा     क    भी     उसके    समथन     म    घसीि     टलया     गया     है।    यह     परघिना    भारत     की     गटतील     राजनीटत     की    थकान    और     टवम     क     दाती     है।     ऊपर     टदए     गए     टकन     जी     के    द    अनुेदो    के    बीच     का    अनुेद     इस     कार     है , ‘‘  समूची     बीसवीो    सदी     म    ाोटत     की     चचा     हती     रही।    ाोटत     का     एक     टवटष    अथ    आम     जनता     तक     पोच     गया    था  ;  ाोटत     का     मतलब     सोगटत    आोदलन     ारा     उ     परवतन  ,  टजससे    समाज    आगे    बढ़ेगा    और     साधारण    आदमी     का     जीवन     बेहतर     हगा  ; आखरी    आदमी     क     नजरअोदाज     नहीो    टकया     जाएगा।    साधारण    आदमी     का     क ीय     मह    और    आखरी    आदमी     का    अटधकार     बीसवीो    सदी     की     राजनीटत    और    अथनीटत     पर     टजतना     हावी     आ  ,  वैसा     कभी     नहीो    आ    था। ’’  यह     टलखते    व     टकन     जी     क    अोदेा    भी     नहीो    रहा     हगा     टक     एनजीओ     सरगनाओो    का     टगरह     करड़पटतयो    क    भी    आम    आदमी     बना     देगा  ;  उनकी     समृी     बढ़ाने    के    टलए     गरीबो    का     वि     खीो च     लेगा  ; और     समाजवादी     ाोटत     का     दावा     करने    वाले    नेता     व     बुजीवी     उसके    समथन     म    स     ह     जाएोगे !  टकन     जी     ने   अपने    उसी     लेख     म    यह     कहा     है    टक   ''1980  के    दक     म    टहोदु     के   आवरण     म    एक     टताोटत     का    अाय     ु     आ     है    दे     की     राजनैटतक     सोृ टत     क     बदलने    के    टलए।    इस     व     टव  -  र     पर     ज     टताोटत     की     लहर     वाटहत     है ,  उससे    इसका     मेल     है ; ... । "  हम     जानते    ह    पू  ोजीवादी     टताोटत     के    पेिे    म    चलने    वाली     साोदाटयक     टताोटत     के    तहत   1992  म    बाबरी     मद     का    ोस     कर     टदया     गया।    टकन     जी     ने    डोके ल     समझौते    के    साथ     ु     हने    वाली     टताोटत     के    मुकाबले    म    वैकक     राजनीटत     की     टवचारधारा    और     सोघ     खड़ा     टकया    था।    साथ     ही     उो ने    टवार     से   धमटनरपेता     का     घणाप     टलखा।    उनके    साथ     ाटमल     रहे    ादातर     लग    आज     टताोटत     के    साथ     ह।    जाटहर     है ,  वे    टकन     जी     के    जीवन     काल     म    उ   धखा     देते    रहे   और     उनके    बाद     उनके    जीवन    भर     के    राजनीटतक     उम     क     नष     करने    म    लगे    ह।    ऐसे    म    ादा     कु छ     कहने -  सुनने    क     नहीो    बचा     है ;  कु छ     टबोदु   अलबा     देखे    जा     सकते    ह  :   (1)  मदी     का     टतल  ,  टजसे    तड़ने    के    टलए     के जरीवाल     क    अनालटचत     समथन     टदया     गया     है ,  वाव     म    कारपरेि     पू  ोजीवाद     का     टतल     है।    मावाटदयो ,  समाजवाटदयो ,  सामाटजक     ायवाटदयो ,  गाोधीवाटदयो   और     बुजीटवयो    ने    के जरीवाल     का     समथन     करके    उस     टतल     क     दीघजीवी     बना     टदया     है।  (2)  के जरीवाल     की     जीत     म   धमटनरपेता     की     जीत     नहीो    है ,  जैसा     टक    अटत     वामपोटथयो    से    लेकर     तरह  -  तरह     के    राजनीटतक     टनरर     जता     रहे    ह।    मुसलमानो    के   भय     की     टभट     पर     जमाई     गई    धमटनरपेता     न     जाने    टकतनी     बार    भहरा     कर     टगर     चुकी     है।   भारत     की    धमटनरपेता     मदी     की     जीत     के    पहले    कई     बार     हार     का     मु ोह     देख     चुकी     है।   भारत     का     टवभाजन  ,  गाोधी     की     हा  , आजादी     के    बाद    अनेक     दोगे ,   1984  म    टसख     नागरको    का     केआम  , 1992  म    बाबरी     मद     का    ोस  , 2002  का     गुजरात     काोड    -   धमटनरपेता     की     हार     के   अटमि     टनान     ह।  (3) धमटनरपेता     के    दावेदार     यह     सब     जानते    ह।    टलहाजा  ,  के जरीवाल     के    समथन     के    पीछे    के    मनटवान     क     समझने    की     जरत     है।    इनम    से    बत  -  से    लग     मदी     के    हाथो    टमली     करारी     टक     क     पचा     नहीो    पाए     ह।    उनका     ढ़     टवास    था     टक     मदी     जैसा     स    भारत     का     धानमोी     नहीो    बन     सकता।    उनका     टवास     िूिा     है।    खीज     टमिाने    के    टलए     वे    टकसी     क    भी     मदी     क     हराता     देखना     चाहते    ह।    के जरीवाल     क     उनके    समथन     का     दूसरा    अोतटनटहत     कारण     घृणा     की     राजनीटत     से    जुड़ा     है।    सवटवटदत     है    टक    आरएसएस     घृणा     की     राजनीटत     करता     है।   धमटनरपेतावाटदयो    म   भी     सोटघयो    के    टत     तुता     से    लेकर     घृणा     तक     का    भाव     रहता     है।    के जरीवाल     की     जीत     से    उनके    इस    भाव     की     तुषी     हती     है।    तीसरा     कारण     सरकारी     पद  -  टता     से    जुड़ा     है।   धमटनरपेतावाटदयो    क     काोेसी     राज     म    सा     की     मलाई     खाने    का     चा     लगा     आ     है।    उ    पता     है    काोेस     टदी     म    सा     म    नहीो   आने    जा     रही     है।    सीधे   भाजपा     का     ौता     खाने    म    उ    लाज    आती     है।    टदी     रा     म    के जरीवाल     की     सा     हने    से    टवटभ      टनकायो /  सटमटतयो    म    ाटमल     हने    म    उ    लाज     का    अनुभव     नहीो    हगा।    हालाोटक     वे    एक    भूल     करते    ह    टक     एनजीओ     वाले    राजनीटत     म   आए     ह    त     उनके   अपने    साथी  -  सगती     टनकायो /  सटमटतयो    म   आएोगे।    टलहाजा  , धमटनरपेतावाटदयो    के    टलए     यहाो    काोेस     जैसी     खुली     दावत     नहीो    हने    जा     रही     है।    मदी     क     हराने    के    नाम     पर     टकए     गए     समथन     क     वे    टताोटत     के    समथन     तक     खीो च     कर     लाएोगे।    देखना     हगा     तब     साथी     ा     पतरा     लेते    ह ? (4)  के जरीवाल     क     वि     देने    वाले    टदी     के    गरीबो    से    कई     टकायत     नहीो    की     जा     सकती।    मीटडया    और     बुजीटवयो    ने   ‘ आप  ’  के   आटथक    और     गरीब     टवरधी     टवचारधाराक     तो    की     जानकारी     उन     तक     पोचने    ही     नहीो    दी।    इस     मेहनतक     वग     क     जी     ही     पता     चलेगा     टक     उनका     इेमाल     उीो    के    खला     टकया     गया     है।    हालाोटक     के जरीवाल     के    दीवाने   ‘ आदवादी  ’  नौजवानो    क     वैसा     नादान     नहीो    कहा     जा     सकता।    टतभावान     कहे    जाने    वाले    इन     नौजवानो    ने    टताोटत     के    पदाटत     की    भूटमका     बखूबी     टनभाई     है।   (5)  दटलत     पू  ोजीवाद     के    पै रकार     देख     ल ,  ूो    समेत     ादातर     सवण     नेता  ,  ासक  ,  टवचारक  ,  एनआरआई     पू  ोजीवादी     टताोटत     के    साथ     जुि     गए     ह।    पू  ोजीवाद     की     दौड़     म    बराबरी     का     मुकाम     कभी     नहीो   आता।  (6)  उस    अश     एजसी     का     लहा     मानना     पड़ेगा     टजसने    के जरीवाल     का     यह     चुनाव    अटभयान     तैयार     टकया    और     चलाया।   ‘  जनता     का     सीएम  ’  कै से    बनता     है ,  यह     उस     एजसी     ने    बखूबी     करके    टदखाया     है।    वह    ‘  जनता     का     धान     सेवक  ’  बनाने    वाली     एजसी     की     िर     की     हरती     है।   अोत     म    सबक।    नई    आटथक     नीटतयो    के    साथ     ु     हने    वाली     टताोटत     का     लगातार     टतरध     आ     है।   अब  ,  जबटक     सारे   म     हि     गए     ह ,  ाोटत     का     सोघ     टनणायक     जीत     की     टदा     म    तेज     हना     चाटहए।  
Related Search
Similar documents
View more
We Need Your Support
Thank you for visiting our website and your interest in our free products and services. We are nonprofit website to share and download documents. To the running of this website, we need your help to support us.

Thanks to everyone for your continued support.

No, Thanks